रोजाना समाचार अपने मोबाइल पर पाने के लिए या कोई भी सुचना देने के लिए आपके सभी व्हाट्सप्प ग्रुप्स में हमारा नंबर 9893200664 जोड़े

खराब हो चुके गुड़ फिर से बाजार में बेचने मिला रहे सेफोलाइट व हाइड्रो रसायन - Humara Mandsaur
Mon. Oct 14th, 2019

Humara Mandsaur

News & Mandi Bhav

खराब हो चुके गुड़ फिर से बाजार में बेचने मिला रहे सेफोलाइट व हाइड्रो रसायन

1 min read
अपने सभी दोस्तों के शेयर करने के लिए निचे क्लिक करे

 शहर में इस समय कई जगह पुराने गुड़ से नया गुड़ बनाए जाने का काम किया जा रहा है। गुड़ कारोबारी मुनाफा कमाने के चक्कर में लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ कर रहे हैं, वह पुराने गुड़ को नए करने के चक्कर में चमक के लिए सेफोलाइट और हाइड्रो जैसे रसायनिक चीजें मिला रहे हैं, जो कि लोगों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इसके बाद भी खाद्य विभाग एवं प्रशासन के अधिकारी गुड़ का अवैद्य कारोबार करने वाले इन कारोबारियों के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

दरअसल गन्ने की फसल आने पर किसान क्रेशर लगाकर उसके रस से गुड़ बनाते हैं। लेकिन अगस्त सितंबर माह में गन्ना न आने पर गुड़ कारोबारी पुराने और गंदे गुड़ को रिसाइकिल कर उसमें चमक के लिए केमिकल मिलाकर कर उसे नया कर फिर से बाजार में बेच रहे हैं।

इस तरह से बनाया जा रहा गुड़ सेहत के लिए हानिकारक है। इस गुड़ को शहर में कई दुकानों के साथ ही शहर से बाहर अन्य क्षेत्रों में भेजा जा रहा है। लेकिन इस मिलावटी गुड़ के कारोबार के खिलाफ फूड विभाग एवं प्रशासन किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं कर रहा है।

गुड़ कारोबारी इस समय गन्ने की आवक न होने और गुड़ की डिमांड के चलते शुगर मिलों के सीरे और गंदे पुराने गुड़ से नए गुड़ को बना रहे हैं। इस गंदे गुड़ को नया बनाते समय इसे साफ करने और चमकदार बनाने के लिए सेफोलाइट जैसे हानिकारक केमिकल को मिला रहे हैं। डॉक्टर सुशील सचदेवा के अनुसार इस तरह के केमिकल के उपयोग से किड़नी से संबंधित बीमारियां या किड़नी फैल होने का खतरा रहता है।

इसके साथ ही गंध को बढ़ाने के लिए हाइड्रो जैसे केमिकल भी मिलाए जा रहें जिससे अल्सर और अन्य बीमारियां हो सकती हैं। खाद्य पदार्थों में इस तरह के केमिकल मिलाना गैर कानूनी है। लेकिन इसके बाद भी ऐसा कारोबार किया जा रहा है और प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। प्रशासन कार्रवाई करे तो इस तरह के कारोबार पर अंकुश लग सकेगा और लोगों को मिलावटी व हानिकारण खाद्य पदार्थ से छुटकारा मिल सकेगा।

खाद्य एवं औषधि विभाग नहीं कर रहा सैंपलिंग
शहर के आसपास और गोराघाट क्षेत्र तक धड़ल्ले से इस तरह का अवैद्य गुड़ बनाया जा रहा है। इसके साथ ही कई दुकानों पर भी इस तरह का गुड़ मिल जाएगा। कुछ माह से मिलावट खोरों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। लेकिन इस तरह के गुड़ के अवैद्य कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए अभी प्रशासन द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है और न फूड विभाग के अधिकारियों से सैंपलिंग कराई जा रही है।

शहर के साथ ही अन्य राज्यों में भेजा जा रहा गुड़
इस तरह का अवैद्य गुड़ शहर के साथ ही मप्र के अन्य शहरों के साथ ही राजस्थान और उत्तरप्रदेश तक में भेजा जा रहा है। शहर के साथ ही इन राज्यों में प्रतिदिन लाखों रुपए का गुड़ बनाकर बाहर भेजा जा रहा है। ठंड के सीजन में गुड् की आवक बढ़ जाती है और इसी का फायदा उठाकर पुराने गुड़ को नया बनाने के लिए हानिकारक पदार्थ मिलाए जा रहे हैं, ताकि मुनाफा कमाया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *