रोजाना समाचार अपने मोबाइल पर पाने के लिए या कोई भी सुचना देने के लिए आपके सभी व्हाट्सप्प ग्रुप्स में हमारा नंबर 9893200664 जोड़े

फिर सियासत का केंद्र बना मंदसौर, कमलनाथ-शिवराज होंगे आमने-सामने - Humara Mandsaur
Mon. Oct 14th, 2019

Humara Mandsaur

News & Mandi Bhav

फिर सियासत का केंद्र बना मंदसौर, कमलनाथ-शिवराज होंगे आमने-सामने

1 min read
अपने सभी दोस्तों के शेयर करने के लिए निचे क्लिक करे

विधानसभा चुनाव में राजनीति का केंद्र रहा मंदसौर एक बार फिर सियासत का मुद्दा बन गया है| इस बाद राजनीति बारिश से हुए नुक्सान को लेकर है, लेकिन मुद्दा किसान ही है, जिसको लेकर भाजपा और कांग्रेस आमने सामने हैं|  एक तरफ जहां पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान प्रदेश की कमलनाथ सरकार की घेराबंदी करने जा रहे है। आज बाढ़ पीड़ितों एवं किसानों के लिए आंदोलन करने के बाद कल 21-22 सितंबर को शिवराज मंदसौर जाएंगे और यहां कलेक्टोरेट के बाहर धरना-प्रदर्शन करेंगें। खास बात ये है कि यह प्रदर्शन एक दो घंटे का नही बल्कि 24  घंटे का है, जिसमें सुबह शिवराज प्रदर्शन करेंगें, शाम को किसानों के साथ चर्चा करेंगें और फिर रात्रि में भजन गाकर कुंभकर्णी नींद में सोई सरकार को जगाएंगें। वही दूसरी तरफ एक दिन बाद सीएम कमलनाथ यहां का दौरा करेंगें। इस दौरान कमलनाथ बाढ़ पीड़ितों और उनके परिवार से मुलाकात कर राहत कार्यों की समीक्षा करेंगे।

यह पहला मौका होगा जब कमलनाथ और शिवराज मंदसौर और किसानों को लेकर आमने-सामने होंगें। हालांकि विधानसभा चुनाव के दौरान भी ऐसा हो चुका है लेकिन तब कमलनाथ के साथ राहुल गांधी और सिंधिया थे। लेकिन इस बार मुकाबला सीधा कमलनाथ और शिवराज के बीच होने वाला है। ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा कि कौन किस पर भारी पड़ेगा। यह धरना-प्रदर्शन सुबह दस बजे से नए कलेक्टर भवन परिसर, यश नगर से शुरु होगा। शिवराज का यह प्रदर्शन सभी बाढ़ पीड़ितों, बढे हुए बिजली बिल,  फसल बर्बादी के मुआवजे और खराब फसलों के पौधे आदि को लेकर होगा। इसमें कई बीजेपी के कार्यकर्ता -स्थानीय नेता और हजारों की संख्या में किसान शामिल होंगें। भाजपा शिवराज के इस धरने को व्यापक बनाने के लिए हर स्तर पर तैयारी में जुट गई है। वहीं चौहान का दौरा बढऩे के साथ प्रशासन भी सकते में है। वही 23  को मुख्यमंत्री कमलनाथ मंदसौर-नीमच का दौरा करेंगें।कमलनाथ के पहले शिवराज के दौरे से कांग्रेस में हड़कंप मचा हुआ है। इसके लिए आज शाम कमलनाथ ने बड़ी बैठक भी बुलाई है जिसमें कई दिग्गज नेता शामिल होंगें। इसमें आगे की रणनीति तैयार की जाएगी।

ये नेता होंगें शामिल

भाजपा मंदसौर के जिलाध्यक्ष राजेंद्र सुराणा, नीमच जिलाध्यक्ष हेमंत हरित, भाजपा प्रदेश महामंत्री बंशीलाल गुर्जर, सांसद सुधीर गुप्ता, विधायक गण जगदीश देवड़ा, ओमप्रकाश सकलेचा, यशपाल सिंह सिसोदिया, दिलीप सिंह गुर्जर, देवीलाल धाकड़, माधव मारू एवं पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार सहित मंदसौर नीमच के स्थानीय भाजपा नेता शामिल होंगें।

ये है प्रमुख मांगे

-किसानों की फसल खराब होने के कारण उन्हें 40 हजार रु प्रति हेक्टेयर के मान से सोयाबीन का मुआवजा दिया जाए ।

-खरीफ की फसल को शत-प्रतिशत नुकसानी मानकर बिना किसी सर्वे के तत्काल उसका मुआवजा मिले।

-जिन लोगों के मकान बाढ़ के कारण गिर गए हैं उन्हें प्राथमिकता से मकान स्वीकृत किए जाएं ।

-घर-घर व्यक्तिगत सर्वे कर नुकसानी का आकलन किया जाए ।

-विद्युत बिल की राशि को माफ किया जाए तथा जिन बिलो में त्रुटि है उन्हें दुरुस्त किया जाए ।

-बाढ़ के बावजूद बिजली बिलों की वसूली के लिए नोटिस दिए जा रहे हैं ।इन नोटिसो को भी तत्काल वापस लिया जाए ।

– इसके साथ ही रबी की फसल के लिए किसानों को जीरो प्रतिशत पर कृषि ऋण दिया जाए ।

-सरकार के वादे के अनुरूप जिन किसानों का कर्ज कब तक माफ नहीं हुआ है उनका 2 लाख तक का कर्जा माफ किया जाए ।

-सरकार द्वारा समय पर किसानों का कर्ज जमा नहीं किए जाने के कारण डिफाल्टर हुए किसानों की नुकसानी भरपाई भी की जाए ।

– समूह का ऋण माफ किया जाए, व्यापारियों के नुकसान का भी आकलन कर तत्काल मुआवजा दिया जाए।

– प्रत्येक बाढ़ पीड़ित परिवार को जीवन यापन प्रारंभ करने के लिए 50 किलो गेहूं 5 लीटर केरोसिन तथा 25 हजार रु की नगद राशि दी जाए ।

अगले दिन कमलनाथ का दौरा

इसके बाद सीएम कमलनाथ 23 सितंबर को मंदसौर और ​नीमच के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करेंगे। इस दौरान कमलनाथ बाढ़ पीड़ितों और उनके परिवार से मुलाकात कर राहत कार्यों की समीक्षा करेंगे। बता दें कि मध्यप्रदेश में बीते दिनों कई ​जिलों में हुई मूसलाधार बारिश के बाद बाढ़ जैसे हालत बन गए थे। बारिश के चलते किसानों और ग्रामीणों का भारी नुकसान हुआ है।बताया जा रहा है कि एक दिवसीय प्रवास के दौरान सीएम कमलनाथ मंदसौर के नाहरगढ़ का भी दौरा करेंगे और यहां के बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात कर उनका हाल जानेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *