रोजाना समाचार अपने मोबाइल पर पाने के लिए या कोई भी सुचना देने के लिए आपके सभी व्हाट्सप्प ग्रुप्स में हमारा नंबर 9893200664 जोड़े

2000 से अधिक मकानों में घुसा पानी, 50 से अधिक मकान गिरे, 800 दुकानें भी जलमग्न - Humara Mandsaur
Mon. Oct 14th, 2019

Humara Mandsaur

News & Mandi Bhav

2000 से अधिक मकानों में घुसा पानी, 50 से अधिक मकान गिरे, 800 दुकानें भी जलमग्न

1 min read
अपने सभी दोस्तों के शेयर करने के लिए निचे क्लिक करे

शहर में अनवरत जारी बारिश शनिवार की रात 11 बजे थमी। इस बारिश से शहर में चारों तरफ पानी ही पानी हो गया। शहर में निचले क्षेत्रों सहित कॉलोनियों में लगभग दो हजार से अधिक मकानों में पानी घुस गया। इसके कारण करीब 10 हजार लोग प्रभावित हुए। शहर सहित आसपास क्षेत्रों में 50 से अधिक मकान गिर गए गए। घरों से बारिश का पानी उतरने के बाद जब सुबह लोग घरों में पहुंचे तो बर्बादी का मंजर देख आंखों से आंसू निकल गए। नगर में बारिश के पानी की निकासी नहीं होने से धानमंडी सहित प्रमुख मार्गों की लगभग 800 से अधिक दुकानों में पानी घुस गया। निकासी नहीं होने के कारण बारिश थमने के 18 घंटे बाद भी दुकानों व मार्गों से पानी खत्म नहीं हुआ। इस स्थिति को देख व्यापारी आक्रोशित हो गए। धानमंडी एवं कालीदास मार्ग पर व्यापारियों ने चक्काजाम कर दिया। सांसद, विधायक एवं नपाध्यक्ष ने पहुंचकर व्यापारियों से चर्चा की, पानी खाली करने के बाद पंप बढ़ाने जाने के बाद व्यापारी माने। देर शाम तक शहर के मार्ग पानी से भरे हुए थे।

बारिश के कारण बड़ा नुकसान शहर में हुआ है। शुक्रवार रात 10 बजे शुरू हुई बारिश लगातार 25 घंटे बाद शनिवार रात 11 बजे रुकी। भारी बारिश के कारण खानपुरा एवं क्षेत्र के अशोक नगर, राजीव नगर, बुगलिया नाले के समीप की बस्ती, मुक्तिधाम के समीप सरस्वती नगर, अभिनंदन कॉलोनी, शनि विहार, मदारपुरा, नृसिंहपुरा, धानमंडी, पतासा गली सहित अन्य क्षेत्रों के लगभग दो हजार मकानों में पानी घुस गया। घरों में पानी घुसने के बाद लोगों ने राहत शिविरों में शरण ली। बारिश थमने के बाद रविवार सुबह तक धानमंडी, पतासा गली को छोड़ लगभग सभी क्षेत्रों में पानी उतर गया। राहत शिविरों से लोग घरों में पहुंचे, घरों में पंखे, कू लर, फ्‌रिज, टीवी, बिस्तर, कपड़े, पलंग आदि सामान सहित खाने-पीने की वस्तुएं भी पानी से खराब हो गई। घरों का सामान पूरी तरह से उथल-पुथल हो गया। दिनभर लोगों ने अपने घरों की साफ-सफाई की। अशोक नगर, खानपुरा, सरस्वती नगर, भोईवाड़ा, नृसिंहपुरा, मदारपुरा व समीप ग्राम अलावदाखेड़ी, हैदरवास सहित अन्य क्षेत्रों में 50 से अधिक मकान गिर गए, इसके कारण कई परिवार बेघर हो गए है। अब लोगों को प्रशासन से राहत की उम्मीद है। बाढ़ पीड़ित परिवारों के लिए राहत के न्ध लगातार खुले हुए है। इसके अलावा कई सामाजिक संगठन भी ऐसे समय में लोगों की सेवा के लिए आगे आए है। कई संगठन घरों तक भोजन के पैके ट पहुंचा रहे है।

रात से बारिश थम गई हमारी दुकानों से पानी कब निकलेगा

व्यापारियों ने कि या चक्काजाम, सांसद, विधायक व नपाध्यक्ष पहुंचे

शहर में बारिश से सम्राट मार्केट, कालीदास मार्ग, बस स्टैंड, धानमंडी, सदर बाजार, हजारी रोड, शुक्ला चौक, बसेर चौक, नयापुरा रोड क्षेत्र की लगभग 800 दुकानों में पानी भर गया। शनिवार रात में बारिश थमी। रविवार सुबह से बादल छाए रहे लेकि न शाम तक बारिश नहीं हुई। इसके बाद भी धानमंडी, पतासा गली, कालीदास मार्ग, सम्राट मार्केट, हजारी रोड, शुक्ला चौक, बसेर चौक में पानी भरा रहा। इसके अलावा कालीदास मार्ग के बेसमेंट कॉम्पलेक्स भी पूरी तरह से भर गए। बारिश के पानी की निकासी नहीं होने के कारण दिनभर मार्गो पर पानी भरा रहा। शाम तक पानी नहीं उतरने पर व्यापारी आक्रोशित हो गए। व्यापारियों ने कालीदास मार्ग एवं सदर बाजार में हंगामा कर चक्काजाम कर दिया।

सांसद सुधीर गुप्ता, विधायक यशपालसिंह सिसौदिया एवं नपाध्यक्ष मो. हनीफ शेख, तहसीलदार नारायण नांदेड़ा, सीएसपी नरेंद्र सोलंकी यहां पहुंचे। व्यापारियों ने कहा रात से बारिश बंद है। हमारी दुकानों से पानी अब तक नहीं निकला है। करोड़ों का हमारा नुकसान हो गया। हम दुकानें खोलकर अपने सामान को कै से देखेंगे। कि राना व्यापारियों का पूरा सामान तबाह हो गया है। इस दौरान सांसद, विधायक ने व्यवस्थाओं में कमी को लेकर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि प्रशासन पानी निकासी की व्यवस्था करें। इसके बाद व्यापारियों का आक्रोश खत्म हुआ। इस दौरान सांसद ने एक करोड़ रुपए की राशि बाढ़ राहत कार्य के लिए सांसद निधि से घोषित की। उसका पत्र विधायक यशपालसिंह सिसौदिया को घंटाघर पर व्यापारियों के बीच दिया और कहा कि तत्काल कलेक्टर को यह पत्र सौंप व्यापारियों को राहत दिलाई जाए। व्यापारियों द्वारा नया पम्प हाउस बनाने की मांग भी की गई।

 

बुगलिया नाले के तेज बहाव में फिर वहीं पाइप लाइन

रामघाट के समीप बुगलिया नाले में तेज बहाव आने से शनिवार को फिर पाइप लाइन बह गई। पिछले माह 14 अगस्त को भी पाइप लाइन बह जाने के बाद 23 दिनों में ठेके दार ने लोहे का जाल लगाकर पाइप लाइन एक सप्ताह पहले ही जोड़ी थी। शनिवार को तेज बहाव में लोहे का जाल सहित पाइप लाइन भी बह गई। इसके कारण रविवार को नगर के कई क्षेत्रों में पेयजल वितरण नहीं हो पाया। जलकल सभापति हाजी रशीद ने बताया कि प्राकृतिक आपदा के कारण पाइप लाइन बह गई है। अब पुनः सुधार करवाया जाएगा। तब तक पुरानी लाइन से शहर में पेयजल वितरण होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *