रोजाना समाचार अपने मोबाइल पर पाने के लिए या कोई भी सुचना देने के लिए आपके सभी व्हाट्सप्प ग्रुप्स में हमारा नंबर 9893200664 जोड़े

अतिवृष्टि से खराब फसलों पर अब तक कोई राहत नहीं - Humara Mandsaur
Fri. Dec 6th, 2019

Humara Mandsaur

News & Mandi Bhav

अतिवृष्टि से खराब फसलों पर अब तक कोई राहत नहीं

1 min read
अपने सभी दोस्तों के शेयर करने के लिए निचे क्लिक करे

अतिवृष्टि के कारण किसानों की फसलें पूरी तरह चौपट हो चुकी हैं। प्रदेश सरकार तथा प्रशासन ने अभी तक किसानों को किसी भी प्रकार की कोई राहत प्रदान नहीं की है किसान आर्थिक रूप से परेशान हो गए हैं। प्रशासन नुकसानी की फसलों का शीघ्र आकलन कर राहत प्रदान करे। इन्हीं मांगों को लेकर  भाजपा किसान मोर्चा ने राज्यपाल के नाम नायब तहसीलदार पंकज जाट को ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन का वाचन करते हुए भाजपा मंडल अध्यक्ष राजेश सेठिया ने कहा कि कर्जमाफी के झूठे वादे के कारण किसान बीमा का लाभ लेने से वंचित रह गए है। पूरे क्षेत्र में सभी प्रकार की फसलें नष्ट हो चुकी है लेकिन तहसील कार्यालय ने केवल 10 प्रश नुकसानी सर्वे में दर्शाई है। जिले के साथ ही क्षेत्र के किसान बहुत ही संवेदनशील हैं और अपना विरोध प्रकट करने के लिए वास्तविक स्थिति का आकलन करने की मांग कर रहे हैं। समय रहते बेबस किसानों की व्यथा पर ध्यान नहीं दिया गया तो जिले और तहसील के समस्त किसान धरना प्रदर्शन के साथ उग्र आंदोलन करेंगे। इस अवसर पर भाजपा नेता राजेंद्र जैन, श्यामसिंह चौहान, किसान मोर्चा मंडल अध्यक्ष रामगोपाल रावत, पूर्व नगर परिषद अध्यक्ष राजेश चौधरी, पूर्व मंडल महामंत्री अशोक पहलवान, नरसिंहलाल पाटीदार, सरदारसिंह चौहान, बालूसिंह सिसोदिया, दीपक मांदलिया, महेश सांकला,पृथ्वीराज मीणा,घनश्याम मीणा, चंदरसिंह बामणी,श्याम बैरागी, थानसिंह परिहार,सौदानसिंह सिसोदिया आदि उपस्थित थे।

 

खेतों में पानी भरा, सोयाबीन बर्बाद ।

नगरी। क्षेत्र में लगातार बारिश से सोयाबीन की फसल बर्बाद हो गई है। खेतों में पानी भर जाने से फसलों की जड़े ही सड़ने लगी हैं। खेतों में खड़ी फसलों में अफलन के साथ ही फसल समय से पहले पीली होकर खराब हो गई है। किसान बद्रीलाल धाकड़, ओमप्रकाश, रमेश धाकड़ आदि ने बताया कि इस बार लगातार बारिश से सोयाबीन की फसल खराब हो गई है। बुधवार को बारिश ने सारे रिकार्ड ही तोड़ दिए। कुएं लबालब हो रहे हैं नालों में भी पानी बह रहा है इससे खेतों में खड़ी फसले लगभग बर्बाद ही हो गई है। ऐसी स्थिति में सोयाबीन अबकी बार किसानों के लिए नुकसानी का सौदा साबित हो रही है। शासन स्तर पर किसानों के लिए राहत की घोषणा की जानी चाहिए।

 

 

नीचम, मंदसौर,रतलाम सहित 12 जिलों में भारी से अति भारी बारिश की चेतावनी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *