जानकारी के अनुसार मंगलवार को पशुओं के लिए चार लेने गए युवक शंभूलाल पिता चैनराम एवं सुरेंद्रसिंह पिता औंकारसिंह दोनों कुएं थाले पर बैठे थे कि अचानक कुएं की थाले एवं मिट्टी धंसने से युवक कुएं में जा गिरे। सुरेंद्रसिंह तैरकर कुएं के बाहर निकल आया। शंभूलाल कुएं की गहराई में जा पहुंचा। तभी कुएं की थाल का बड़ा हिस्सा एवं लगातार मलबा कुएं में गिरने के कारण युवक शंभूलाल नीचे दब गया। सुरेंद्रसिंह ने शोर मचाकर ग्रामीणों को एकत्र कर घटना की जानकारी दी। पहले तो कुएं का पानी खाली कराया गया। बाद में प्रशासन ने जल्द युवक को कुएं से निकालने के लिए जेसीबी एवं तीन पोकलेन मशीनें बुलाईं। लगातार मशक्कत के बाद भी युवक का कहीं पता नहीं चला। कुएं को 100 फीट से अधिक चौड़ा कर दिया गया है। बुधवार को बचाव कार्य लगातार जारी रहा। पानी की निकासी के लिए कई विद्युत मोटरें भी लगाई गईं किंतु पानी की मात्रा अधिक होने से कुएं का जलस्तर ज्यादा कम नहीं हो पाया। तीन पोकलेन मशीन एवं एक जेसीबी द्वारा लगातार कुएं से मलबा निकाला जा रहा है। जमीन अधिक गीली होने से बार-बार कुएं में गिरता जा रहा है। भारी बरसात के कारण भी परेशानी हो रही है। हर आधे-पौने घंटे के बाद विद्युत मोटर को लगाकर निकासी की जा रही है। मल्हारगढ़ एसडीएम रोशनी पाटीदार, तहसीलदार मुकेश सोनी, थाना प्रभारी अरविंदसिंह राठौर सहित अन्य अधिकारी भी लगातार जुटे हैं। विधायक जगदीश देवड़ा, मंदसौर जनपद उपाध्यक्ष परशुराम सिसोदिया, श्यामलाल जोकचंद सहित कई अन्य जनप्रतिनिधि भी के परिजन को सांत्वना देते रहे। कुएं से1000 से ज्यादा ट्रॉली मलबा निकाला जा चुका है।