Sat. Jul 20th, 2019

Humara Mandsaur

News & Mandi Bhav

10 दिन में न्याय का था वादा, 6 माह बाद किसानों से भरा रहे बांड

1 min read
अपने सभी दोस्तों के शेयर करने के लिए निचे क्लिक करे

किसान आंदोलन के बाद प्रशासन द्वारा हजारों किसानों पर प्रकरण दर्ज कर उनसे बांड भरवाए थे। इस पर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने विस चुनाव से पहले आमसभा कर कांग्रेस की सरकार बनने पर 10 दिन में किसानों को न्याय दिलाने की बात कही थी। कमलनाथ ने किसानों पर दर्ज फर्जी प्रकरण वापसी का आश्वासन दिया। सरकार बनने के छह माह बाद भी किसानों पर दर्ज प्रकरण वापस नहीं हुए। बल्कि बुधवार को बूढ़ा गांव के करीब 8 किसानों से वापस सशर्त बांड भराने के नाेटिस जारी किए।

जिले के 1200 से अधिक किसानों पर प्रकरण दर्ज कर आगे इस तरह की कार्रवाई में शामिल नहीं होने के बांड भरवाएं। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल सहित सभी नेताओं ने इस कार्रवाई को गलत बताते हुए सरकार बनने पर किसानों के साथ न्याय करते हुए प्रकरण वापस लेने के वादे किए। पिपलियामंडी के पास आमसभा में राहुल गांधी ने दस दिन में न्याय का वादा किया। सीएम कमलनाथ में सभा में किसानों पर दर्ज प्रकरण वापस लेने की बात कही। बुधवार को मल्हारगढ़ तहसील कार्यालय से बूढ़ा गांव के करीब आठ किसानों को सशर्त जमानत के बांड जारी किए गए। इसमें थाना प्रभारियों को आदेश दिए कि किसानों को हाजिर करें, अगर वह अपनी तरफ से 500 रुपए का मुचलका लिखकर हर एक को 500 रुपए की जमानत इस बात की दें कि वे 17 जुलाई को तहसील कार्यालय में पेश हाेंगे।

मामले में किसान एवं नाैजवान किसान संघ संयोजक प्रफुल्ल पाटीदार ने बताया कि इन्हें पहले भी नोटिस जारी किए थे। तब वह न्यायालय में पेश नहीं हुए थे। आज वापस नोटिस जारी किए हैं लेकिन उन्होंने बताया वे अभी भी पेश नहीं होंगे। पुलिस व प्रशासन को जो करना है कर ले। पाटीदार ने बताया कि पुलिस ने झूठे प्रकरण दर्ज कर रखे हैं, जिस पर परेशान किया जा रहा है। हमने किसान आंदोलन में कुछ किया हो और उसकी कोई वीडियो या प्रूफ हो तो बताएं। मेरे भाई पर तो कलेक्टर को चांटा मारने का प्रकरण दर्ज कर रखा है जबकि उस समय वह गांव में कन्हैयालाल पाटीदार के अंतिम संस्कार की तैयारी कर रहा था। इसके वीडियो भी पुलिस को दे दिए है। सब झूठे प्रकरण दर्ज कर किसानों को परेशान किया जा रहा है।

समाचार जारी ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *