रोजाना समाचार अपने मोबाइल पर पाने के लिए या कोई भी सुचना देने के लिए आपके सभी व्हाट्सप्प ग्रुप्स में हमारा नंबर 9893200664 जोड़े

कृषि ऋण के मामले में बैंक प्रबंधक का मनमाना तुगलकी निर्णय - Humara Mandsaur
Fri. Nov 22nd, 2019

Humara Mandsaur

News & Mandi Bhav

कृषि ऋण के मामले में बैंक प्रबंधक का मनमाना तुगलकी निर्णय

1 min read
अपने सभी दोस्तों के शेयर करने के लिए निचे क्लिक करे

मंदसौर। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा किसानो के कल्याण एवं उत्थान के लिये जय किसान ऋण माफी योजना लागु करने के साथ ही किसानो को कृषि ऋण के मामले में हरसंभव राहत देने का कार्य किया है। प्रदेश के मुखिया कमलनाथ द्वारा किसानो के कल्याण हेतु लिये जा रहे फैसलो पर जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के महाप्रबंधक एवं स्टॉफ द्वारा जिस प्रकार से पानी फेरा जा रहा है उसका प्रत्यक्ष उदाहरण कृषि ऋण के मामले में बैंक प्रबंधक का मनमाना तुगलकी निर्णय है जिसमें अन्य बैंक से बकाया राशि को आधार बताकर कृषि ऋण देने से इंकार किया जा रहा है।

यह आरोप पूर्व जिला कांग्रेस सेवादल अध्यक्ष अशोक रेकवार ने लगाया । उन्होनें बताया कि जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक में पिछले पंद्रह सालो के दौरान विचारधारा के आधार पर जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के समस्त शाखाओं के अलावा सोसायटीयो में प्रबंधको की नियुक्ति की गयी, इसका असर यह रहा कि प्रदेश सरकार द्वारा जय किसान ऋण माफी योजना को लागु करने की बजाय बैंक एवं सोसायटियां लोकसभा चुनाव के पूर्व किसानो को गुमराह करते रहे जिसके चलते चुनावो में भारी पराजय का सामना कांग्रेस को करना पडा।

रेकवार ने ताजा मामला नरसिंहपुर सोसायटी का रखते हुये कहा कि प्रदेश सरकार के साफ निर्देश है कि जिन किसानो का केसीसी बाकी हो तब भी कृषि ऋण किसानो को सोसायटीयो के माध्यम से मिलेगा लेकिन जिला सहकारी बैंक में बैठे शाखा प्रबंधक द्वारा तमाम आदेशो को मानने से इंकार करते हुये ऋण देने से इंकार किया जा रहा है, जबकी मंदसौर जिले की अन्य स्थानो एवं सोसायटियो में किसानो को कृषि ऋण आसानी से मिल रहा है। रेकवार ने शाखा प्रबंधक की पृष्ठभूमी की ओर इशारा करते हुये कहा कि इनके द्वारा लगातार उन किसानो एवं व्यक्तियो के ऋण प्रकरण जल्द स्वीकृत किये गये है जो भाजपा एवं आरएसएस विचारधारा से जुडे रहे है, बाकी किसानो के मामले में अपने हिसाब से आदेशो को परिभाषित करते हुये परेशान करने का कार्य जारी है।

इस मामले में रैकवार ने प्रदेश के सहकारिता मंत्री गोविंदसिंह, प्रदेश के कृषि मंत्री सचिन यादव, जिले के प्रभारी मंत्री हुकुमसिंह कराडा एवं पूर्व मंत्री नरेन्द्र नाहटा, पूर्व जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष नंदकिशोर पटेल (नीमच), सहकारिता उपायुक्त श्रीमती मीना डाबर से तत्काल जिला सहकारी बैंक की विगत 15 सालो की जांच करवाने का आग्रह करते हुये कर्मचारियो द्वारा किये गये भ्रष्टाचार के अनेक प्रकरणो से अवगत कराया है।

समाचार जारी ...

1 min read
1 min read
1 min read

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *